मीराबाई की रचनाएँ, जीवन परिचय, कला पक्ष, भाव पक्ष, साहित्य में स्थान | Meera ki rachnaye

मीराबाई की रचनाएँ, जीवन परिचय, कला पक्ष, भाव पक्ष, साहित्य में स्थान | meera ki Rachnaye

मीरा बाई का जीवन परिचय

जीवन परिचय

मीराबाई की रचनाएँ | Meera ki Rachnaye | Mirabai ki Rachnaye

मीरा ने स्वयं कुछ नहीं लिखा । कृष्ण के प्रेम में मीरा ने जो गाया वो बाद में पद मे संकलित हो गए ।

  1. राग सोरठा
  2. नरसीजी रो मायारा
  3. मीरा की मल्हार
  4. मीरा पदावली
  5. राग गोविंद
  6. गीत गोविंद
  7. गोविंद टीका

मीराबाई के बारे में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करेंमीरा बाई का संपूर्ण जीवन परिचय, कला पक्ष, भाव पक्ष, साहित्य में स्थान

Advertisements

बचपन से ही मीरा कृष्ण भक्ति में लीन रहती थी । पति की मृत्यु के बाद परिवार वालों ने उसे मारने के कई प्रयास किए । इन सभी कारणों से मीरा बाई परेशान होकर मेवाड़ त्याग दिया और द्वारिका जाकर कृष्ण भक्ति में जीवन व्यतीत करने लगी ।

यह कहा जाता है की मीरा यहीं भजन गाते- गाते मीरा कृष्ण जी की मूर्ति में समा गई । यह घटना सन 1546 की बताई जाती है ।

इन्हें भी पढ़े 

Advertisements

कबीरदास का जीवन परिचय, रचनाएँ 

तुलसीदास का जीवन परिचय , रचनाएँ 

तुलसीदास के दोहे अर्थ सहित 

Advertisements

मीरा के पद अर्थ सहित

रहीम के दोहे अर्थ सहित

सूरदास का जीवन परिचय

Advertisements

महात्मा गाँधी  का जीवन परिचय, निबंध  

आचार्य रामचन्द्रशुक्ल का परिचय 

 

Advertisements

Leave a Comment