मीराबाई की रचनाएँ, जीवन परिचय, कला पक्ष, भाव पक्ष, साहित्य में स्थान

मीरा बाई का जीवन परिचय

जीवन परिचय

मीराबाई की रचनाएँ

मीरा ने स्वयं कुछ नहीं लिखा । कृष्ण के प्रेम में मीरा ने जो गाया वो बाद में पद मे संकलित हो गए ।

  1. राग सोरठा
  2. नरसीजी रो मायारा
  3. मीरा की मल्हार
  4. मीरा पदावली
  5. राग गोविंद
  6. गीत गोविंद
  7. गोविंद टीका

आगे पढ़ने के लिए इस लिंक पर जाएं

मीरा बाई का संपूर्ण जीवन परिचय, कला पक्ष, भाव पक्ष, साहित्य में स्थान

बचपन से ही मीरा कृष्ण भक्ति में लीन रहती थी । पति की मृत्यु के बाद परिवार वालों ने उसे मारने के कई प्रयास किए । इन सभी कारणों से मीरा बाई परेशान होकर मेवाड़ त्याग दिया और द्वारिका जाकर कृष्ण भक्ति में जीवन व्यतीत करने लगी ।

यह कहा जाता है की मीरा यहीं भजन गाते- गाते मीरा कृष्ण जी की मूर्ति में समा गई । यह घटना सन 1546 की बताई जाती है ।

इन्हें भी पढ़े 

कबीरदास का जीवन परिचय, रचनाएँ 

तुलसीदास का जीवन परिचय , रचनाएँ 

कबीर दास के 50+ दोहे अर्थ सहित 

तुलसीदास के दोहे अर्थ सहित 

मीरा के पद अर्थ सहित

रहीम के दोहे अर्थ सहित

सूरदास का जीवन परिचय

महात्मा गाँधी  का जीवन परिचय, निबंध  

आचार्य रामचन्द्रशुक्ल का परिचय 

 

Leave a Comment