गुलाम वंश का संस्थापक कौन था? | Gulam Vansh Ka Sansthapak Kaun Tha

Gulam Vansh Ka Sansthapak Kaun Tha | गुलाम वंश का संस्थापक कौन था?

Gulam Vansh Ka Sansthapak Kaun Tha: गुलाम वंश का संस्थापक कुतुबुद्दीन ऐबक था – Qutb ud-Din Aibak was the first founder of Slave (Ghulam) Dynasty or Mamluk Dynasty. (1206-1290)

कुतुब उद-दीन ऐबक दिल्ली का पहला मुस्लिम शासक और मामलुक वंश का संस्थापक था। उसने 1206 से 1210 ई. तक दिल्ली सल्तनत पर शासन किया। ऐबक मूल रूप से एक तुर्क गुलाम था जो अपने गुरु मुहम्मद गौरी की ओर से सैन्य अभियानों का नेतृत्व करने के बाद गौरी के सबसे भरोसेमंद जनरलों में से एक बन गया। गौरी की मृत्यु के बाद, ऐबक ने खुद को सुल्तान घोषित किया और मामलुक वंश की स्थापना की।

कुतुब उद-दीन ऐबक दिल्ली के पहले सुल्तान थे और उन्होंने 12वीं शताब्दी के दौरान दिल्ली सल्तनत पर शासन किया था। अपने गुरु की मृत्यु के बाद, उन्होंने स्वतंत्रता की घोषणा की और दिल्ली सल्तनत की स्थापना की। उन्होंने 1210 ई. में अपनी मृत्यु से पहले चार साल से भी कम समय तक शासन किया।

Advertisements

Gulam Vansh Ke Sansthapak

दिल्ली के सुल्तान के रूप में शासन

कुतुब उद-दीन ऐबक दिल्ली का पहला सुल्तान था और भारतीय इतिहास में एक प्रतिष्ठित व्यक्ति है। उनका जन्म 1150 ईस्वी के आसपास मध्य एशिया के तुर्केस्तान में हुआ था और उनका परिवार तुर्की अभिजात वर्ग से संबंधित था। गौरी की मृत्यु के बाद, ऐबक ने खुद को दिल्ली का सुल्तान घोषित किया और चार साल तक शासन किया। अपने शासनकाल के दौरान, उन्होंने कुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद का निर्माण किया, जिसे भारत में निर्मित पहली मस्जिद माना जाता है। उन्होंने कुतुब मीनार का निर्माण भी शुरू किया, जिसे उनके दामाद और उत्तराधिकारी इल्तुतमिश ने पूरा किया। ऐबक की मृत्यु 1210 ई. में पोलो खेलते समय घोड़े से गिरकर हुई थी।

प्रारंभिक जीवन

कुतुब उद-दीन ऐबक का जन्म 1150 ई. में तुर्किस्तान में हुआ था। उन्हें कम उम्र में गुलामी में बेच दिया गया था और एक फारसी शासक मुहम्मद गोरी के दरबार में समाप्त हो गया, जिसने वर्तमान अफगानिस्तान और पाकिस्तान के बड़े हिस्से को नियंत्रित किया। ऐबक एक प्रतिभाशाली सैनिक साबित हुआ और जल्दी ही रैंकों के माध्यम से ऊपर उठा, अंततः गोरी के सबसे भरोसेमंद जनरलों में से एक बन गया।

Advertisements

भारत की विजय

1206 CE में, मुहम्मद गोरी की मृत्यु के बाद, ऐबक ने भारत में अपनी सेना का नेतृत्व किया और दिल्ली पर विजय प्राप्त की। इसके बाद उन्होंने मामलुक राजवंश की स्थापना करते हुए खुद को सुल्तान घोषित किया। ऐबक के शासन में, दिल्ली व्यापार और संस्कृति का एक संपन्न केंद्र बन गया। इस अवधि के दौरान मुस्लिम कला और वास्तुकला का विकास हुआ। ऐबक के शासनकाल की सबसे उल्लेखनीय उपलब्धि कुतुब मीनार का निर्माण था, जो एक विशाल मीनार है जो दिल्ली के सबसे प्रतिष्ठित स्थलों में से एक है। 1210 सीई में अपनी मृत्यु से पहले ऐबक ने चार साल तक शासन किया। उनके दामाद शम्स उद-दीन इल्तुतमिश ने उनका उत्तराधिकार किया।

निष्कर्ष:

कुतुब उद-दीन ऐबक दिल्ली का पहला मुस्लिम शासक और मामलुक वंश का संस्थापक था। उसने 1206 से 1210 ई. तक शासन किया। ऐबक मूल रूप से एक तुर्क गुलाम था जो अपने गुरु मुहम्मद गौरी की ओर से सैन्य अभियानों का नेतृत्व करने के बाद प्रमुखता से उभरा। गौरी की मृत्यु के बाद, ऐबक ने खुद को सुल्तान घोषित किया और मामलुक वंश की स्थापना की। ऐबक के शासन में दिल्ली व्यापार और संस्कृति के केंद्र के रूप में फली-फूली। ऐबक के शासनकाल की सबसे उल्लेखनीय उपलब्धि कुतुब मीनार का निर्माण था, जो एक विशाल मीनार है जो दिल्ली के सबसे प्रतिष्ठित स्थलों में से एक है।

Advertisements

गुलाम वंश ने दिल्ली की सत्ता पर १२०६ से लेकर १२९० ईस्वी (84वर्ष) तक राज किया।

कुतुबुद्दीन ऐबक 1206-1210
आरामशाह 1210
इल्तुतमिश 1210-1236
रूकुनुद्दीन फ़ीरोज़शाह 1236
रजिया सुल्तान 1236-1240
मुईज़ुद्दीन बहरामशाह 1240-1242
अलाऊद्दीन मसूदशाह 1242-1246
नासिरूद्दीन महमूद 1246-1265
गयासुद्दीन बलबन 1265-1287
मुईज़ुद्दीन क़ैक़ाबाद / शमशुद्दीन क्यूम़र्श 1287-1290

 

गुलाम वंश के कुल कितने शासक थे?
१२०६ से लेकर १२९० गुलाम वंश के कुल १० शासक थे।

Advertisements

गुलाम वंश का प्रथम शासक कौन था?
गुलाम वंश का प्रथम शासक कुतुबुद्दीन ऐबक था। (1206-1210)

गुलाम वंश का अंतिम संस्थापक कौन था?
मुईज़ुद्दीन क़ैक़ाबाद गुलाम वंश का अंतिम शासक था और उसके लकवा मरने के बाद उसका ३ साल का बेटा शमशुद्दीन क्यूम़र्श गुलाम वंश के अंतिम संस्थापक रहे – (1287-1290)

 

Advertisements

keywords for blog – 

कुतुब उद-दीन ऐबक – गुलाम वंश शासक

कुतुब उद-दीन ऐबक – दिल्ली का पहला सुल्तान

Advertisements

कुतुब उद-दीन ऐबक – गुलाम वंश का पहला संस्थापक

Also Read

Good morning quotes in Hindi

Advertisements

Leave a Comment