गुप्त वंश का संस्थापक कौन था | Gupt Vansh Ka Sansthapak Kaun Tha

Gupt Vansh Ke Sansthapak Kaun The | गुप्त वंश का संस्थापक

गुप्त वंश का संस्थापक श्रीगुप्त थे । गुप्त वंश प्राचीन भारत के प्रमुख शासकों में से एक थे ।

मौर्य वंश के पतन के बाद गुप्त वंश का उदय हुआ था । चन्द्रगुप्त प्रथम नें अपने राज्याभिषेक के बाद गुप्त सवंत की स्थापना की ।

इसने लिच्छावि राजकुमारी के साथ विवाह किया था। अतः इससे उत्पन्न पुत्र समुन्द्र्गुप्त को लिच्छावि दोहित्र कहा गया था ।

Advertisements

गुप्त वंश एक ऐसा काल था जिसमें भारत ने कला, धर्म और विज्ञान का एक महान उत्कर्ष देखा। गुप्त साम्राज्य की स्थापना 320 CE में महाराजा श्री गुप्त ने की थी, और यह 550 CE तक चला। गुप्त एक हिंदू राजवंश थे, और साम्राज्य वर्तमान भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश में स्थित था।

इस समय के दौरान की गई कई उपलब्धियों के कारण गुप्त काल को भारतीय इतिहास में स्वर्ण युग माना जाता है। उदाहरण के लिए, गुप्त साम्राज्य के दौरान कई महत्वपूर्ण गणितीय और खगोलीय प्रगति हुई थी। ऐसी ही एक प्रगति शून्य की एक संख्या के रूप में अवधारणा थी। इस अवधि में भारत के कुछ सबसे प्रसिद्ध मंदिरों का निर्माण भी देखा गया, जिनमें बोधगया में महाबोधि मंदिर और कोणार्क में सूर्य मंदिर शामिल हैं।

गुप्तों को कला के संरक्षण के लिए जाना जाता था। उन्होंने कलाकारों और लेखकों को भारतीय संस्कृति की सुंदरता को दर्शाने वाले कार्यों को बनाने के लिए प्रोत्साहित किया। गुप्त काल के दौरान भारतीय कला के कई प्रसिद्ध टुकड़े बनाए गए, जिनमें अजंता की गुफाओं के चित्र और भरहुत की मूर्ति शामिल हैं। इस युग में संस्कृत नाटक और कविता का भी विकास हुआ। नाटककार कालिदास ने इस समय के दौरान कई प्रसिद्ध रचनाएँ लिखीं, जिनमें अभिज्ञानशाकुंतलम और कुमारसंभव शामिल हैं।

Advertisements

गुप्त विभिन्न धार्मिक विश्वासों के प्रति सहिष्णु थे और उन्होंने लोगों को स्वतंत्र रूप से अपनी आस्था का पालन करने की अनुमति दी। हालाँकि, इस समय के दौरान हिंदू धर्म अभी भी प्रमुख धर्म था। पूरे साम्राज्य में हिंदू मंदिरों का निर्माण किया गया था, और कई हिंदुओं ने इन पवित्र स्थलों की तीर्थयात्रा की। इसके अलावा, पूरे साम्राज्य में दिवाली और होली जैसे हिंदू त्योहार मनाए जाते थे।

गुप्त साम्राज्य का पतन कई कारकों के कारण हुआ। गिरावट का एक कारण हूणों जैसे विदेशी कबीलों का आक्रमण था। इसके अलावा, शासक वर्ग के प्रति हिंदुओं में असंतोष बढ़ रहा था। इस असंतोष ने गुप्त शासन के विरुद्ध विद्रोह को जन्म दिया। आखिरकार, इन आंतरिक और बाहरी कारकों के परिणामस्वरूप 550 सीई में साम्राज्य का पतन हुआ।

गुप्त वंश ने संपूर्ण भारतीय उपमहाद्वीप पर 280 से लेकर 550 ईस्वी (270 वर्ष) तक राज किया।

Advertisements

Gupt Vansh Ke Sansthapak Kaun The

श्रीगुप्त प्रथम ल. तीसरी शताब्दी के उत्तरार्ध में 240/275
घटोत्कच गुप्त 280/290–319 ईस्वी
चन्द्रगुप्त प्रथम 319–335 ईस्वी
समुद्रगुप्त 335–375 ईस्वी
रामगुप्त 375 ईस्वी
चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य 375–415 ईस्वी
कुमारगुप्त प्रथम 415–455 ईस्वी
स्कन्दगुप्त 455–467 ईस्वी
पुरुगुप्त 467–473 ईस्वी
कुमारगुप्त द्वितीय 473–476 ईस्वी
बुद्धगुप्त 476–495 ईस्वी
नरसिंहगुप्त बालादित्य 495–530 ईस्वी
कुमारगुप्त तृतीय 530–540 ईस्वी
विष्णुगुप्त 540–550 ईस्वी

 

निष्कर्ष:

गुप्त राजवंश भारतीय इतिहास में एक स्वर्ण युग था, जो गणित, खगोल विज्ञान, साहित्य, कला और धार्मिक सहिष्णुता में महान प्रगति के रूप में चिह्नित था। साम्राज्य अंततः विदेशी आक्रमणों और आंतरिक कलह के कारण गिर गया लेकिन भारत की समृद्ध संस्कृति के प्रमाण के रूप में इसकी विरासत आज भी जारी है। हमें आशा है की गुप्त वंश के बारे में यहाँ दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी।

Advertisements

Leave a Comment